अपना व्यक्तित्व प्रभावशाली कैसे बनाये

Author:

UDAY SHANKAR SAHAY

Publisher:

V & S Publisher

Rs156 Rs195 20% OFF

Availability: Available

    

Rating and Reviews

0.0 / 5

5
0%
0

4
0%
0

3
0%
0

2
0%
0

1
0%
0
Publisher

V & S Publisher

Publication Year 2012
ISBN-13

9789381448717

ISBN-10 938144871X
Binding

Paperback

Edition FIRST
Number of Pages 150 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 21x13x0.5
Weight (grms) 196

'प्रभावशाली व्यक्तित्व' प्रत्येक व्यक्ति की अपनी अमूल्य धारोवर है, जिसकी वजह से भीड़ मे भी उसकी अलग पहचान बनती है। परिवार हो  या समाज, देश हो या विदेश, नौकरी हो या उद्योग-व्यापार, स्कूल-कॉलेज हो या साहित्य और कलाओ की दुनिया, प्रशासन हो या राजनैतिक तंत्र,मसलन हर जगह आपको ढेर सारे लोग खड़े नज़र आएंगे, पर उनमे भी जो सर्वाधिक प्रभावित कर सके और सबका मान-सम्मान पा सके, वही आपका आदर्श होगा। आपको वैसा ही बनना है।  यह पुस्तक आपको ऐसा ही आकर्षक बनाने के लिए ठोस सलाहें देती है। 


इसके लिए आपको ये प्रयास करने होंगे—



  • आपको आलस्य और बुरे विचारों को त्यागकर कठिनाइयों से जूझने की ताकत को बढ़ाना होगा। 

  • आपको आत्मविश्वास, जिज्ञासा, सहनशक्ति, त्याग भावना, कर्तव्य निष्ठा, विनम्रता को अपने भीतर आत्मसात करना होगा। 

  • फिर आप मधुर वाणी बोले, सभी का सम्मान करे, अद्यावशी बने लीक से हटकर चले। 

  • आप अपने उद्देश्य को अच्छी तरह जाने, सब कुछ देखे-परखे, नियमित कार्यक्रम बनाकर वर्तमान में जीना सीखे। 


फिर देखें कि आपका व्यक्तित्व कितनी जल्दी आकर्षक और प्रभावशाली बन जाएगा और आप दुनिया के सबसे खुश व्यक्ति होंगे। 

UDAY SHANKAR SAHAY

70 वर्षीय उदय शंकर सहाय की बिहार सरकार मे इंजिनीयर की नौकरी करते हुए 1984 मे आँखों की रोशनी चली गई। एक तो वद्धावस्था, उस पर अँधेरा संसार सामने था, पर उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। धर्म, अध्यात्मक और योन मे मन लगाया और 'मनोयोग' नाम से संस्था की स्थापना की। पटना और मुंबई मे सहाय जी ने अनगिनत लोगो का इलाज किया और उनके भीतर से हीनता, निराशा, भय, चिंता और तनाव जैसे मनोरोगों को बाहर निकाल दिया। इसके अतिरिक्त उन्होंने व्यक्ति के आत्म-विकास पर अध्ययन, मनन एवं चिंतन किया।
No Review Found