Gitanjali (Hindi)

Author:

Rabindranath Tagore

Publisher:

Maple Press

Rs106 Rs125 15% OFF

Availability: Available

Publisher

Maple Press

Publication Year 2015
ISBN-13

9789350338773

ISBN-10 9350338777
Binding

Paperback

Edition FIRST
Number of Pages 168 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 14 x 22
Weight (grms) 181

रविंद्रानाथ ठाकुर को गुरुदेव के नाम से भी जाना जाता है.वे विश्‍वविख्‍यात कवि, साहित्यकार, दार्शनिक और भारतीय साहित्य के एकमात्र नोबेल पुरस्कार विजेता हैं. उनकी दो रचनाआएे दो देशो की राष्‍ट्रगान बनी-भारत का राष्‍ट्रगान - जन-गण-मन और बांग्लादेश का आमार शोनार बांग्ला.गीतांजलि उनकी सर्वश्रेष्ठ रचनाओ मे से एक है.इसके लिये उन्हे 1913 मे साहित्य का नोबेल पुरुस्कार मिला. गीतांजलि बांग्ला भाषा मे लिखी ग्यी थी,जिसका बाद मे अंग्रेजी,हिन्दी सहित और कई भाषाओ मे अनुवाद किया गया.गीतांजलि शब्द गीत और अंजलि को मिला कर बना है जिसका अर्थ-गीतो का उपहार है.यह काव्य प्रकृति प्रेम, ईश्वर के प्रति निष्ठा और मानवतावादी मूल्यो के प्रति समर्पित भाव से संपन्न है.

Rabindranath Tagore

Rabindranath Tagore, sobriquet Gurudev, was a Bengali polymath who reshaped Bengali literature and music, as well as Indian art with Contextual Modernism in the late 19th and early 20th centuries. Author of Gitanjali and its “profoundly sensitive, fresh and beautiful verse”, he became the first non-European to win the Nobel Prize in Literature in 1913.He is sometimes referred to as “The Bard of Bengal”.
More from Author