Hindi Sahitya Ka Itihas Aur Uski Samasyayen (Hindi)

Author:

Yogendra Pratap Singh

Publisher:

VANI PRAKSHAN

Rs445 Rs890 50% OFF

Availability: Available

    

Rating and Reviews

0.0 / 5

5
0%
0

4
0%
0

3
0%
0

2
0%
0

1
0%
0
Publisher

VANI PRAKSHAN

Publication Year 2011
ISBN-13

9789350005019

ISBN-10 9350005018
Binding

Hardcover

Edition FIRST
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 20 x 14 x 4
Weight (grms) 422

हिन्दी साहित्य पर यदि समुचित परिप्रेक्ष्य में विचार किया जाए तो स्पष्ट होता है कि हिन्दी साहित्य का इतिहास अत्यंत विस्तृत व प्राचीन है। लेकिन पुस्तक 'हिन्दी साहित्य काइतिहास और उसकी समस्याएँ' तथ्यों के विवरणों तथा विशेषता तक ही सीमित नहीं है। लेखक ने सम्पूर्णत: यह चेष्टा की है। कि समसामयिक इतिहास के प्राप्त तथ्यों के आधार पर रीतिकाल एवं आधुनिक काल से जुड़ी उन विशिष्ट समस्याओं पर विचार किया है जो साहित्य के नए तथ्यों एवं उनके सापेक्ष्य में उत्पन्न नयी समस्याओं से सम्बद्ध है।

Yogendra Pratap Singh

No Review Found
More from Author