Jaivik Kheti Ke Aayam

Author:

Khalil khan

,

D. P. Singh

,

R. L. Arya

,

D. R. Singh

Publisher:

ASTRAL INTERNATIONAL (P) LTD.

Rs1076 Rs1495 28% OFF

Availability: Available

    

Rating and Reviews

0.0 / 5

5
0%
0

4
0%
0

3
0%
0

2
0%
0

1
0%
0
Publisher

ASTRAL INTERNATIONAL (P) LTD.

Publication Year 2021
ISBN-13

9789389719390

ISBN-10 9389719399
Binding

Hardcover

Edition First
Number of Pages 259 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 24.2 X 16 X 1.5
Weight (grms) 542

देश की बढ़ती जनसंख्या की उदरपूर्ति के लिए खाद्यान्न उत्पादन बढ़ाने पर विशेष रूप से जोर दिया गया, जिसके फलस्वरूप हम खाद्यान्न में तो आत्मनिर्भर हो गये, परन्तु मृदा की दशा खराब हो गयी। रासायनिक उर्वरकों एवं कीटनाशी/रोगनाशी रसायनों के अन्धाधुन्ध प्रयोग से मृदा की मौलिक, रासायनिक एवं जैविक दशा पर सबसे ज्यादा प्रतिकूल/नकारात्मक प्रभाव पड़ा। जैविक कृषि से तात्पर्य उच्च गुणवत्तायुक्त एवं रसायनयुक्त फसलोत्पादन एवं मृदा, जल, वायु, पर्यावरण तथा मनुष्यों के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभावों को समाप्त करते हुए अधिक एवं टिकाऊ फसलोत्पादन करने से है। इस पुस्तक में जैविक खेती की उन सभी विधियों को सम्मिलित किया गया है, जिससे मृदा, जल तथा वायु को प्रदूषित किये बिना दीर्घकालीन समय तक उच्च गुणवत्तायुक्त उत्पादन प्राप्त किया जा सके। यह पुस्तक जैविक खेती अपनाने वाले कृषकों के लिये विशेष रूप से उपयोगी है एवं प्रसार कार्यकर्ताओं, नीति निर्धारकों, शिक्षकों तथा अध्ययनरत छात्र-छात्रओं के लिये उपयोगी साबित होगी।

Khalil khan

D. P. Singh

R. L. Arya

D. R. Singh

No Review Found