ज्योतिष विद्या सीखें

Author:

Laxmi Narayan Sharma

Publisher:

V & S Publisher

Rs256 Rs350 27% OFF

Availability: Available

    

Rating and Reviews

0.0 / 5

5
0%
0

4
0%
0

3
0%
0

2
0%
0

1
0%
0
Publisher

V & S Publisher

Publication Year 2020
ISBN-13

9789350576540

ISBN-10 9350576546
Binding

Paperback

Edition FIRST
Number of Pages 140 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 21x14x0.5
Weight (grms) 232

अनन्त आकाश में फैली अलौकिक शक्ति के अनदेखे संकेत। भूकंप, ज्वालामुखी विस्फोट, बर्फीली हवाएं, समुद्री तूफानों का जोर आदि जैसे सितारों और ग्रह-नक्षत्रों के अनदेखे संकेत विनाशकारी घटनाओं पृथ्वी की जड़, जागरूक प्राणियों को नुकसान पहुंचाते हैं। ज्योतिष के पूर्वानुमान से इन सभी तथ्यों से बचा जा सकता है।


प्रस्तुत पुस्तक में, ज्योतिष कर्म कर्म भाग्य, कुंडली रचना, वैदिक गणित, ग्रह, राशि और नक्षत्र आदि के नियमों / सिद्धांतों के अनुसार आरोही खोजने की आसान विधि का सही वर्णन है। पुस्तक का चौथा अध्याय द्वादश भाव पर प्रकाश डालता है। हमें उम्मीद है कि ज्योतिष प्रेमियों और ज्योतिष का अध्ययन करने वाले छात्रों के लिए यह पुस्तक निश्चित रूप से उपयोगी साबित होगी।

Laxmi Narayan Sharma

लेखक लक्ष्मीनारायण शर्मा की धर्म, अध्यात्म और ज्योतिष के प्रति अभिरुचि जीवन के प्रारंभिक काल से ही रही है ज्योतिष भूषण की उपाधि से अलंकृत होने के साथ-साथ आप तीस वर्ष तक हरियाणा शिक्षा विभाग मे कई महत्त्वपूर्ण राजपत्रित पदों पर कार्यरत रह चुके हैं आपने कई देशो की यात्राएँ भी की है आपकी अभूतपूर्व एवं अनुकरण्य सामाजिक सेवाओं के लिये महामहिम राज्यपाल हरियाणा के कर कमलो द्वारा आपको स्मृति चिन्ह एवं प्रसारषित पत्र प्रदान किया गया है आपकी अन्य कृतियों मे ज्योत्षी प्रदीप Four Trines in Vedic Astrology तथा फलित ज्योत्षी की बाजार मे काफी माँग हैं
No Review Found
More from Author