Dada Comrade

Author:

Yashpal

Publisher:

Penguin Random House India Private Limited

Rs359 Rs399 10% OFF

Availability: Available

Shipping-Time: Usually Ship 3-5 Days

    

Rating and Reviews

0.0 / 5

5
0%
0

4
0%
0

3
0%
0

2
0%
0

1
0%
0
Publisher

Penguin Random House India Private Limited

Publication Year 2022
ISBN-13

9780143455127

ISBN-10 0143455125
Binding

Paperback

Number of Pages 272 Pages
Language (English)
Weight (grms) 210
This fine translation has once again returned Yashpal's story to that fraught arena where every warrior appears exhausted today'-Ravish Kumar 'A daring and unusual novel'-Vasudha Dalmia 'A remarkable contribution to literary translation in English'-Apoorvanand Harish, a young revolutionary in pre-Independence Lahore, upsets his party by questioning its credo of underground armed resistance. Escaping the party's wrath, he becomes a labour activist, but is soon framed by the British government. Meanwhile, Shailbala, his comrade and lover, must take a decision about her pregnancy. As she courageously defies social norms and stands up to her influential father, can she find an ally within the revolutionary party-with Dada--Harish's erstwhile mentor and antagonist--as its autocratic leader? Yashpal's first and semi-autobiographical novel, Dada Comrade is considered the pioneering political novel of Hindi literature. It raises questions about freedom and equality, as well as about sexuality and marriage-subjects as urgent today as in those times. In this first-ever English translation, Simona Sawhney brilliantly captures the force and intensity of the original, which had heralded the arrival of a literary genius.

Yashpal

जन्म: 3 दिसम्बर, 1903, फिरोजपुर छावनी, पंजाब। शिक्षा: प्रारम्भिक शिक्षा गुरुकुल काँगड़ी, डी.ए.वी. स्कूल, लाहौर और फिर मनोहर लाल हाईस्कूल में हुई। सन् 1921 में वहीं से प्रथम श्रेणी में मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की। प्रारम्भिक जीवन रोमांचक कथाओं के नायकों-सा रहा। भगत सिंह, सुखदेव, भगवती चरण और आजाद के साथ क्रान्तिकारी कार्यों में खुलकर भाग लिया। सन् 1931 में 'हिन्दुस्तान समाजवादी प्रजातंत्र सेना' के सेनापति चन्द्रशेखर आजाद के मारे जाने पर सेनापति नियुक्त। 1932 में पुलिस के साथ एक मुठभेड़ में गिरफ्तार। 1938 में जेल से छूटने के बाद जीवनपर्यन्त लेखन-कार्य में संलग्न रहे। प्रमुख प्रकाशित कृतियाँ: झूठा सच: वतन और देश, झूठा सच: देश का भविष्य, मेरी तेरी उसकी बात, देशद्रोही, दादा कामरेड, मनुष्य के रूप, दिव्या, अमिता, बारह घंटे, अप्सरा का शाप (उपन्यास); धर्मयुद्ध, ओ भैरवी, उत्तराधिकारी, चित्र का शीर्षक, अभिशप्त, वो दुनिया, ज्ञानदान, पिंजरे की उड़ान, तर्क का तूफान, भस्मावृत चिंगारी, फूलो का कुर्ता, तुमने क्यों कहा था मैं सुन्दर हूँ, उत्तमी की माँ, खच्चर और आदमी, भूख के तीन दिन, लैम्प शेड (कहानी-संग्रह); लोहे की दीवार के दोनों ओर, राहबीती, स्वर्गोद्यान: बिना साँप (यात्रा-वृत्तान्त); मेरी जेल डायरी (डायरी); रामराज्य की कथा, गाँधीवाद की शव-परीक्षा, मार्क्सवाद; देखा, सोचा, समझा; चक्कर क्लब, बात-बात में बात, न्याय का संघर्ष, बीबी जी कहती हैं मेरा चेहरा रोबीला है, जग का मुजरा, मैं और मेरा परिवेश, यथार्थवाद और उसकी समस्याएँ, यशपाल का विप्लव (राजनीति/निबन्ध/व्यंग्य/संपादन); सिंहावलोकन (सम्पूर्ण 1-4 भाग) (संस्मरण); नशे-नशे की बात (नाटक); प्रिय पाश (पत्र)। पुरस्कार: देव पुरस्कार, सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार, मंगला प्रसाद पारितोषिक, पद्मभूषण, साहित्य अकादमी पुरस्कार। निधन: 26 दिसम्बर, 1976.
No Review Found
More from Author