Haan Tum Ek Vijeta Ho (Hindi)

Author:

R. S. Choyel

Publisher:

V & S Publisher

Rs115 Rs195 41% OFF

Availability: Available

Publisher

V & S Publisher

Publication Year 2017
ISBN-13

9789381448755

ISBN-10 9381448752
Binding

Paper Back

Edition First
Number of Pages 160 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 21.7X14X0.7
Weight (grms) 190

यह कृति व्यक्तित्व विकास कार्यशाला पर आधारित है, जिसमें युवाओं को यह संदेश पहुँचाने का प्रयास किया गया है कि हां, तुम एक विजेता हो और तुम्हारे भीतर विजेता होने के समस्त गुण विद्यमान हैं। आवश्यकता है, केवल उन्हें पहचान कर अमल में लाने की। इसमें जीवन के लक्ष्यों, आत्मविश्वास, परिवर्तन, सही प्रकृति व समय के चमत्कार पर अत्यधिक बल दिया गया है। इसके अतिरिक्त सफलता व असफलता की सिद्ध रीतियों को भी स्पष्ट कर दिया है। कार्यशाला के प्रमुख भागों में से एक इसकी कार्य योजना है, जिसमें महत्वाकांक्षा का चुनाव प्राथमिकता के आधार पर निर्धारित करना एवं समय का प्रबन्धन Time Management आदि है। इसका वास्तविक ध्येय जहाँ युवाओं का मार्गदर्शन कराने वाली सामग्री की रिक्तता को दूर करना है, वहीं आकर्षक व्यक्तित्व के प्रमुख तत्त्वों का उल्लेख इसकी विशेषता है। इसकी प्रत्येक कार्यशाला अनुभव जनित सत्य को प्रकट करती है। पुस्तक सृजन के पीछे यही भावना रही है कि मानव कर्मठ बनकर स्वयं सत्य से साक्षात्कार करे, विजयी होकर जीवन लक्ष्य प्राप्त करे। आर. एस. चोयल, जो कि लेखक होने के साथ-साथ एक उद्योगपति भी हैं, इसलिए सफलता प्राप्त करने के मार्ग में आने वाली दैनिक कठिनाइयों का अध्ययन कर अपने अनुभवों को युवाओं के मार्गदर्शन हेतु अत्यन्त सरल भाषा में पिरोकर लेखों, व्याख्यानों व कार्यशालाओं की सहायता से प्रस्तुत करते रहते हैं और इसी क्रम में एक प्रयास है यह पुस्तक— हां, तुम एक विजेता हो! 

R. S. Choyel

आर एस चोयल ने बिज़नेस मैनेजमेंट में एम कॉम , लोक प्रशासन में एम ए व मार्केट मैनेजमेंट में पी एच डी डिप्लोमा के साथ साथ निर्यात प्रबंधन तथा कंप्यूटर के क्षेत्र में विशेष दक्षताएँ प्राप्त की हैं। वह प्रसिद्ध युवा उधमी, निर्माता, व निर्यातक भी हैं। इन्होने व्यक्तित्व विकास को समर्पित संस्था 'ब्रेन्स ट्रस्ट सोसाइटी' की स्थापना की हैं। इसके अंतर्गत स्कूल, कॉलेज की युवाओं को प्रेरित व उत्साहित कर, उनके स्वार्गिन विकास की लिए व्याख्यान तथा सेमिनार आयोजित किये जाते हैं।
More from Author