Khali Jagah

Author:

Geetanjali Shree

,

Satya Prakash Mishra

Publisher:

Rajkamal Parkashan Pvt Ltd

Rs215 Rs250 14% OFF

Availability: Available

    

Rating and Reviews

0.0 / 5

5
0%
0

4
0%
0

3
0%
0

2
0%
0

1
0%
0
Publisher

Rajkamal Parkashan Pvt Ltd

Publication Year 2016
ISBN-13

9788126718573

ISBN-10 8126718579
Binding

Hardcover

Number of Pages 244 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 20 x 14 x 4
Weight (grms) 261
ख़ाली जगह गीतांजलि श्री संवेदना और गहरी दृष्टि से भाषा के अनोखे खेल की रचना करता है गीतांजलि श्री का उपन्यास - ‘ख़ाली जगह’। इस उपन्यास में लेखिका ने नैरेटिव की चिन्दियों को विस्फोट की तरह फैलने दिया है - बार-बार सत्यता के दावों में छेद करते हुए। ‘ख़ाली जगह’ में मूल तत्त्व वह हिंसा है जो हमारे, रोज़मर्रे की ज़िन्दगी में समा गई है। ‘बम’ इसका केन्द्रीय रूपक है जो ज़िन्दगियों के परखचे उड़ा देता है। एक अनाम शह के अनाम विश्वविद्यालय के सुरक्षित समझे जानेवाले कैफे में एक बम फटता है - और उन्नीस लोगों की शिनाख्त से शुरू होती है - ‘ख़ाली जगह’ की कहानी। उन्नीसवीं शिनाख़्त करती है एक माँ - अपने राख हुए अठारह साल केे बेटे की और यही माँ ले आती है बेटे की चिन्दियों के साथ एक तीन साल के बच्चे को, जो सलामत बच गया है, न जाने कैसे, ज़रा-सी ख़ाली जगह में...| गीतांजलि श्री ऑब्जेक्टिव और सब्जेक्टिव यथार्थ के बीच जो तालमेल बिठाती हैं वह स्पष्ट, तार्किक क्रम को तोड़ता है। वह उसमें लेखकीय वक्तव्य देकर कोई हस्तक्षेप नहीं करतीं। पात्रों की भावनाएँ, उनके विचार और कर्म, अस्त-व्यस्त उद्घाटित होते हैं, घुटे हुए, कभी ठोस, कभी ज़बरदस्त आस और गड़बड़ाई तरतीब में हैरानी से भिंचे हुए। पूछते से कि क्या यही है जीवन, यही होता है उसका रंग-रूप, ऐसा ही होना होता है? ‘ख़ाली जगह’ गीतांजलि श्री के लेखन की कुशलता का सबूत है, वह कल्पना और यथार्थ के अभेद से बनी ज़िन्दगी बटोर लाती हैं और ‘ख़ाली जगह’ पाठकों के मन पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ जाता है।

Geetanjali Shree

Geetanjali Shree writes novels and short stories in Hindi. Mai was her debut novel, this translation receiving the Sahitya Akademi award. Her much-acclaimed novels Tirohit and Khali jagah have also been translated into English as The Roof Beneath Her Feet and The Empty Space respectively. Her novel Hamara shahar us baras is considered an important intervention on the issue of communal relations in India, particularly in the aftermath of the demolition in Ayodhya. Her writings have been translated into multiple European and Indian languages and are a part of the syllabus in many universities across the world. Geetanjali has written an intellectual biography of Premchand in English. She is also involved with theatre in Delhi, mostly with the well-known group Vivadi, devising adventurous scripts, such as on Umrao Jan Ada, the courtesan from Lucknow and on Jaishankar Sundari, the male actor from Gujarat who played the female lead and was hugely popular. These plays have been performed widely in India and abroad. 
 

Satya Prakash Mishra

No Review Found
More from Author