Ruk Jaana Nahin

Author:

Nishant Jain IAS

Publisher:

Hindi Yugam

Rs140 Rs175 20% OFF

Availability: Available

Publisher

Hindi Yugam

Publication Year 2019
ISBN-13

9789388754781

ISBN-10 9388754786
Binding

Paper Back

Number of Pages 160 Pages
Language (Hindi)
Weight (grms) 195

यह किताब प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले हिंदी मीडियम के युवाओं को केंद्र में रखकर लिखी गई है।


इस किताब में कोशिश की गई है कि हिंदी पट्टी के युवाओं की ज़रूरतों के मुताबिक़ कैरियर और ज़िंदगी दोनों की राह में उनकी सकारात्मक रूप से मदद की जाए। इस किताब के छोटे-छोटे लाइफ़ मंत्र इस किताब को खास बनाते हैं। ये छोटे-छोटे मंत्र जीवन में बड़ा बदलाव लाने की क्षमता रखते हैं।


इस किताब की कुछ और ख़ासियतें भी हैं। इसमें पर्सनैलिटी डेवलपमेंट के प्रैक्टिकल नुस्ख़ों के साथ स्ट्रेस मैनेजमेंट, टाइम मैनेजमेंट पर भी विस्तार से बात की गई है। चिंतन प्रक्रिया में छोटे-छोटे बदलाव लाकर अपने कैरियर और ज़िंदगी को काफ़ी बेहतर बनाया जा सकता है। विद्यार्थियों के लिए रीडिंग और राइटिंग स्किल को सुधारने पर भी इस किताब में बात की गई है। कुल मिलाकर किताब में कोशिश की गई है कि सरल और अपनी-सी लगने वाली भाषा में युवाओं के मन को टटोलकर उनके मन के ऊहापोह और उलझनों को सुलझाया जा सके।


इस मोटिवेशनल किताब में असफलता को हैंडल करने और सफलता की राह पर बढ़ते जाने कुछ नुस्ख़े भी सुझाए हैं। ऐसे 26 युवाओं की सफलता की शानदार कहानियाँ भी उन्हीं की ज़ुबानी इस किताब के अंत में शामिल हैं, जिन्होंने तमाम प्रतिकूलताओं के बावजूद ‘रुक जाना नहीं’ का मंत्र अपनाकर सफलता की राह बनाई और युवाओं के प्रेरणास्त्रोत बने।

Nishant Jain IAS

उत्तर प्रदेश के मेरठ में जन्मे निशान्त ने एम.ए. के बाद NET/JRF परीक्षा उत्तीर्ण की। उनकी बेस्टसेलर किताब ‘मुझे बनना है UPSC टॉपर’ अभ्यर्थियों में बेहद लोकप्रिय है। उनकी किताब ‘राजभाषा के रूप में हिंदी’ नेशनल बुक ट्रस्ट से प्रकाशित है।
More from Author