Yaar Batohi

Author:

I.K. Khan

Publisher:

HIND YUGM

Rs284 Rs299 5% OFF

Availability: Available

Shipping-Time: Usually Ships 3-5 Days

    

Rating and Reviews

0.0 / 5

5
0%
0

4
0%
0

3
0%
0

2
0%
0

1
0%
0
Publisher

HIND YUGM

Publication Year 2024
ISBN-13

9788119555161

ISBN-10 8119555163
Binding

Paperback

Number of Pages 252 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 19.8 X 12.9 X 1.6
Weight (grms) 190

यार बटोही’ किताब की यात्रा अपने-आप में एक दिलचस्प कहानी है।


इस कहानी के 14 किरदार (लेखक) एक-दूसरे से अनजान, देश के अलग-अलग हिस्सों में अपनी कहानियाँ जी रहे थे। ये अजनबी हिमालय की हसीन वादियों में नई वाली हिंदी के स्तंभ दिव्य प्रकाश दुबे की एक राइटिंग वर्कशॉप में मिले। उनकी प्रेरणा और राइटिंग टिप्स का प्रभाव वर्कशॉप के बाद भी इस समूह के साथ क़ायम रहा और उसी प्रभाव का परिणाम है यह अनोखा कहानी-संग्रह—‘यार बटोही’।


जिस किताब की प्रेरणा एक यात्रा से शुरू हुई, लाज़मी है कि वो किताब यात्राओं के बारे में ही हो।


इस कहानी-संग्रह में लेखकों ने यात्रा और उसके कई रूपों का उल्लेख किया है, जैसे कि दो जगहों के बीच की यात्रा, आपसी रिश्तों में क़रीब आने की यात्रा, जीवन के अर्थ को समझने की यात्रा, अपनी गलतियों को सुधारने की यात्रा आदि। ‘यार बटोही’ की कहानियाँ यात्रा से जुड़े ऐसे कई पहलुओं को किरदारों, अनुभवों और भावनाओं के ज़रिये जीवंत करती हैं।

I.K. Khan

I.K. Khan has done his MA from ALigarh University and completed his PhD from Jamia Millia Islamia in 1992. He has done extensive research on Islamic Studies and Traditions. His articles published in the leading magazines and periodicals of India, pakistan and other countries are acclaimed for their analytcal approach, in-depth study and dispassionate criticism. He has a number of published books and papers in reputed national and international journals to his credit. He is also heading multi-disciplinary research organizations and development devoted to research and advocacy on the different sections of Indian Society.
No Review Found
More from Author