Ank Jyotish Vigyan Evam Bhavishyafal (Hindi)

Author:

Arun Sagar ' Anand '

Publisher:

V & S Publisher

Rs171 Rs295 42% OFF

Availability: Available

Publisher

V & S Publisher

Publication Year 2015
ISBN-13

9789381588710

ISBN-10 9381588716
Binding

Paper Back

Edition First
Number of Pages 223 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 20.5X13.5X1
Weight (grms) 182

अंक ज्योतिष पर आधारित यह पुस्तक साधारणतः बोलचाल की भाषा में लिखी गयी है। प्रस्तुत पुस्तक की भाषा इतनी सरल एवं सहज है कि साधारण से साधारण पढ़ा-लिखा व्यक्ति भी इसे आसानी से समझ लेना तथा इसका पूरा लाभ उठा सकने में सक्षम होगा। इस पुस्तक में लेखक के 25 वर्षों के ज्योतिष विषय को पढ़ने का मूलमंत्र है, साथ ही भाषा-शैली की भावना भी है कि आप इसे बिना किसी शब्दकोश के पढ़ पाएंगे। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि भविष्य को जानने की इच्छा अनादिकाल से मानव के मन में रही है। आज भविष्य जानने की कई विधियाँ हैं, जिनमें कुंडली, प्रश्न-कुंडली, रामलशास्त्र, हस्तरेखा विज्ञान आदि प्रमुख हैं। लेकिन अंकविद्या एक ऐसी पद्धति है जिसका उपयोग किसी अन्य सभी विधाओं में किसी न किसी रूप में किया जाता है। 

Arun Sagar ' Anand '

Author of Arun Sagar (Anand) has been writing independently for the last 25 years. Hundreds of his articles, many poems, stories and novels have been published by various publishing institutions. Recently, a book written by him has been given National Award by Humanitarian Vice President. His two books have been awarded by Improve Your Memory Power and Numerology and Future V&S Publishers.
More from Author