Prayayvachi Shabdkosh (Hindi)

Author:

Arun Sagar ' Anand '

Publisher:

V & S Publishers

Rs200 Rs250 20% OFF

Availability: Available

Shipping-Time: Usually Ships 1-3 Days

    

Rating and Reviews

0.0 / 5

5
0%
0

4
0%
0

3
0%
0

2
0%
0

1
0%
0
Publisher

V & S Publishers

Publication Year 2017
ISBN-13

9789350571149

ISBN-10 9789350571149
Binding

Paperback

Edition First
Number of Pages 240 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 21X13.6X0.8
Weight (grms) 180
वी एण्ड एस पब्लिशर्स ने हिन्दी भाषी पाठकों की जरूरतों को महसूस कर प्रर्यायवाची शब्दकोश का संकलन किया है। प्रस्तुत प्रर्यायवाची शब्दकोश को सर्वसाधारण के लिये और भी अधिक उपयोगी बनाने हेतु इसमें संस्कृत मूल के समानार्थक और तद्भव शब्दों के साथ अरबी, फारसी, पुर्तगाली, डच, फ्रेंच आदि भाषाओं के उन शब्दों को भी सम्मिलित किया गया है जो हिन्दी शब्दों के प्रर्याय बन चुके हैं। यह शब्दकोश हिन्दी और अहिन्दी भाषी दोनों पाठकों के लिये समान रूप से उपयोगी है। इसके साथ संक्षिप्त विलोम शब्दकोश भी प्रकाशित किया गया है। यह शब्दकोश विभिन्न प्रतियोगी परीक्षा में सम्मिलित होने वाले प्रतियोगियों के साथ स्कूल व कॉलेजों में अध्ययन करने वाले सभी छात्र-छात्रओं के लिये भी समान रूप से उपयोगी है। प्रस्तुत प्रर्यायवाची शब्दकोश के अन्त में पाठकों की जानकारी के लिये कुछ परिशिष्ट भी जोड़े गये है जिनमें मुहावरे, विलोम शब्दों पर आधारित पदबंध, भिन्नार्थक शब्द सम्मोचारित शब्द, सहचर शब्द तथा अनेक शब्दों के लिये एक शब्दों के परिशिष्ट शामिल हैं, जिनका प्रयोग पाठक रोजमर्रा की जिन्दगी में करते है।

Arun Sagar ' Anand '

Author of Arun Sagar (Anand) has been writing independently for the last 25 years. Hundreds of his articles, many poems, stories and novels have been published by various publishing institutions. Recently, a book written by him has been given National Award by Humanitarian Vice President. His two books have been awarded by Improve Your Memory Power and Numerology and Future V&S Publishers.
No Review Found
More from Author