Cinema Ke Baare Mein

Author:

Javed Akhtar

Publisher:

Rajkamal Parkashan Pvt Ltd

Rs135 Rs150 10% OFF

Availability: Available

    

Rating and Reviews

0.0 / 5

5
0%
0

4
0%
0

3
0%
0

2
0%
0

1
0%
0
Publisher

Rajkamal Parkashan Pvt Ltd

Publication Year 2016
ISBN-13

9788126711680

ISBN-10 812671168X
Binding

Paperback

Number of Pages 141 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 20 x 14 x 4
Weight (grms) 200
सिनेमा के बारे में....जावेद अख्तर इस पुस्तक में नसरीन मुन्नी कबीर ने जावेद अख्तर जैसे बहुआयामी रचनाधर्मी से लम्बी बातचीत की है, जिसके अंतर्गत जावेद की प्रारंभिक रचनाओ पर पड़े प्रभावों, उनके पारिवारिक जीवन और फिल्म-जगत के महत्वपूर्ण पक्षों को उदघाटित किया गया है, जहाँ जावेद ने सन ’६५ के आसपास ‘कैपलर-ब्वाय’ के तौर पर अपना करियर शुरू किया था | इस बातचीत में सलीम खां के साथ उनके सफल साझे-लेखन पर भी पर्याप्त प्रकाश पड़ता है | इस पुस्तक में मोलिक विचारक जावेद अख्तर ने विश्लेष्णात्मक ढंग से हिंदी सिनेमा की परंपरा, गीत-लेखन और कथा-तत्व के विभिन्न पक्षों को उदघाटित किया है और फिल्म-लेखन के कई पक्षों की सारगर्भित चर्चा की है | पटकथा लेखन और फ़िल्मी शायरी के बारे में अपनी मोलिक मान्यताओ और रचना-प्रक्रिया के विभिन्न आयामों पर टिप्पणियां करने के साथ-साथ जावेद ने यह भी बताया है किश्रेष्ठ पटकथाएँ और गीत कैसे लिखे जाते हैं | जावेद ने सफाई और ईमानदारी से अपनी शायरी और राजनैतिक जागरूकता की विकास-यात्रा पर भी महत्वपूर्ण चर्चा की है | जावेद के हास्य-व्यंग, उनकी प्रखर बौद्धिकता, पटकथा लेखन की तकनीक पर उनकी गहरी पकड़ और सोदाहरण बातचीत ने इस पुस्तक को उन सबके लिए महत्त्वपूर्ण बना दिया है, जिनकी फिल्म और कला में रुचि है |

Javed Akhtar

शायर, पटकथाकार और गीतकार जावेद अख़्तर ऐसे गिने-चुने लोगों में हैं जो व्यावसायिक सिनेमा से लेकर शायरी और अदब तक की दुनिया में एक विशेष महत्‍व रखते हैं। भारतीय सिनेमा के इतिहास में जावेद अख़्तर का योगदान ज़ंजीर, दीवार और शोले जैसी फ़िल्मों के कालातीत महत्‍व से आँका जाता है जिनकी पटकथाएँ उन्होंने सलीम ख़ाँ के साथ मिल कर लिखी थीं। उर्दू और हिन्दी में प्रकाशित उनके कविता-संग्रह तरकश को हर तरह की सफलता मिली है। उन्होंने ऐसे फ़िल्मी गीत लिखे हैं जिनका न केवल अनुकरण किया गया बल्कि उनसे नयी परम्परा की शुरुआत भी हुई। आज सिनेमा और साहित्य के क्षेत्र में जावेद अख़्तर अत्यन्त सफल और सम्माननीय व्यक्ति हैं।
No Review Found
More from Author