Sex Ke 111 Sawal

Author:

Dr. Prakash Chandra Gangrade

Publisher:

V & S Publisher

Rs221 Rs295 25% OFF

Availability: Available

    

Rating and Reviews

0.0 / 5

5
0%
0

4
0%
0

3
0%
0

2
0%
0

1
0%
0
Publisher

V & S Publisher

Publication Year 2016
ISBN-13

9789381448441

ISBN-10 9381448442
Binding

Paperback

Edition First
Number of Pages 120 Pages
Language (Hindi)
Dimensions (Cms) 22x14x0.7
Weight (grms) 168

यह पुस्तक वास्तव में वर्तमान समय के यौन जीवन की तमाम स्थितियों-परिस्थितियों का जायज़ा लेती है तथा स्त्री-पुरुष दोनों को ही स्वस्थ यौन आनंद के नियम सिखाने में सक्षम है। यह मानी हुई बात है कि यौन संबंध मधुर होगा, तो सारा जीवन सुखी, सुंदर और रसमय होगा। इसी दृष्टि से चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विषयों के प्रख्यात डॉक्टर एवं यौन मनोविज्ञान के विशेषज्ञ डॉ. प्रकाशचंद्र गंगराड़े ने सेक्स के इन 111 सवालों को उठाकर उनके सटीक एवं व्यावहारिक ढंग से रोचक शैली में जवाब दिए हैं। ये जवाब यौन विषयों की सभी तरह की समस्याओं और शंकाओं का समाधान करते हैं। आज के ज्वलंत प्रश्न: * वयस्क युवक एवं युवती में सेक्स विकास के क्या लक्षण हैं? * स्त्री व पुरुषों में कामशीतलता या ठंडापन क्यों आता है? * पुरुष के वीर्य को इतना अधिक महत्त्व क्यों देते हैं? * संभोग में स्त्री-पुरुष का परस्पर सहयोग क्यों आवश्यक है? * क्या पुरुषों में भी मेनोपाज होता है? * किस आयु से और कितने अंतराल से संभोग करना चाहिए? * सफल संभोग के लिए क्या-क्या गुर अपनाने चाहिए? * संभोग में स्त्री को कष्ट क्यों होता है? * सेक्स विकृतियां क्यों पैदा होती हैं? ये और इनके जैसे 111 महत्त्वपूर्ण सवाल इस पुस्तक में दिए गए हैं, जो पग-पग पर आपकी हर समस्या का समाधान करने में सक्षम हैं। 

Dr. Prakash Chandra Gangrade

डॉ. प्रकाशचंद्र गंगराड़े की लगभग 350 रचनाओं ने देश की अनेक प्रतिष्ठा पत्र-पत्रिकाओं मे स्थान बनाया है। यूनीवार्ता एवं पब्लिकेशन सिटीकेट जैसी एजेंसियों के माध्यम से भी इनकी रचनाएं प्रकाश मे आई है। आकाशवाणी भोपाल केंद्र से इनकी 75 से अधिक वार्ताएं प्रसारित हो चुकी है। विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओ मे अनेक पुरस्कार प्राप्त कर इन्होने विघारत्न, साहित्यालंकार, साहित्य कला विघालंकार, साहित्यश्री जैसी उपाधियाँ प्राप्त करने मे भी सफलता पाई है। अपने सुलेखन के लिए सभी के बीच निरंतर प्रशंशित हुए है।
No Review Found
More from Author